मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना लांच हुई, आवेदन प्रक्रिया, लाभ एवं पात्रता जाने


इस समय पूरी दुनिया में सड़क दुर्घटना के कारण मृत्यु हो जाने वाले लोगों की संख्या भारत में सबसे अधिक है। इसका मुख्य कारण दुर्घटनाग्रस्तो को सही समय पर अस्पताल ना ले जाना है। इसी बिंदु को ध्यान में रखते हुए ‌राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी ने अपने राज्य में मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना की शुरुआत की है। Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana के माध्यम से सड़क दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाने वाले को सम्मान के रूप में ₹5000 की इनाम (पुरस्कार) राशि दी जाती है। साथ ही उन्हें प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है।

इस योजना की विशेषता यह है कि देश के किसी भी राज्य का नागरिक राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाता है तो वह इस योजना के तहत इनाम राशि प्राप्त करने का हकदार हैं। Mukhymantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana 2022 से जुड़ी ओर अधिक जानकारी जैसे -उद्देश्य, लाभ एवं विशेषताएं, इनाम राशि प्राप्त करने के लिए आवेदन प्रक्रिया आदि जाने  के लिए हमारे इस लेख को नीचे तक अवश्य पढ़ें।

Mukhymantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना क्या है?

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत जी ने 16 सितंबर को मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना को शुरू किया था।  इस योजना के तहत राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए लोगों को जो लोग अस्पताल पहुंचाते हैं उन्हें सम्मान के रूप में ₹5000 का इनाम और एक सशस्त्र पत्र दिया जाता है। इसके अलावा घायल व्यक्तियों को अस्पताल पहुंचाने वाले से पुलिस पूछताछ भी नहीं करेगी। प्रदेश सरकार का Mukhymantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana 2022 को शुरू करने का मुख्य लक्ष्य एक ही है कि सड़क हादसे में घायल हुए लोगों को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाया जा सके ताकि उन्हें सही समय पर इलाज मिल सके और उनकी जान बच सके। क्योंकि WHO की एक रिपोर्ट के मुताबिक, यदि सड़क दुर्घटनाओं में घायल होने वाले व्यक्तियों को सही समय पर इलाज दिया जा सकेगा तो 50% सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली मौतों से बचा जा सकता है।

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना

Mukhymantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana Key Highlights

योजना का नाम मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना
शुरू की गई सीएम अशोक गहलोत जी के द्वारा
आरंभ तिथि 16 सितंबर
लाभार्थी सड़क दुर्घटनाग्रस्त घायल को अस्पताल पहुंचाने वाले लोग
उद्देश्य सड़क दुर्घटनाग्रस्त घायल को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाया जा सके
साल 2022
राज्य राजस्थान
योजना श्रेणी राज्य सरकारी योजना
इनाम राशि ₹5000 और प्रशस्ति पत्र
आवेदन प्रक्रिया ऑफलाइन
इनाम प्राप्त करने हेतु संपर्क करे कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिस

Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana पुरस्कार प्राप्त करने हेतु कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर से करना होता है संपर्क

यदि राजस्थान मे कोई व्यक्ति सड़क दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति को अस्पताल लेकर जाता है और उसका इलाज करवाता है तो उस व्यक्ति को मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना के तहत पुरस्कार राशि प्राप्त करने के लिए इस बात की पूरी जानकारी कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर को देनी होगी। सीएमओ द्वारा व्यक्ति का नाम, सही पता, मोबाइल नंबर एवं बैंक डिटेल्स प्राप्त की जाएगी। सभी जानकारी प्राप्त करने के बाद इस बात की पुष्टि की जाती है कि घायल व्यक्ति को किस अस्पताल लाया गया है उसकी हालत गंभीर है या नहीं या उसे इलाज मिला या नहीं आदि। अगर क्लेम करने वाले व्यक्ति की सभी बातों सही होती है तो इस दशा में सीएमओ द्वारा उसे ₹5000 की पुरस्कारराशि और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाता है।

मुख्यमंत्री डिजिटल सेवा योजना

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना का उद्देश्य

हमारे देश में अधिकतर देखा गया है कि जब सड़क दुर्घटना होती है तो वहां पर मौजूद लोग दुर्घटना में घायल हुए लोगों को कानूनी कार्यवाही के डर से अस्पताल ले जाने से बचते हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार द्वारा अपने राज्य में मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना को शुरू किया गया है।‌ इस योजना के माध्यम से सड़क दुर्घटना में घायल हुए लोगों को सही समय पर अस्पताल पहुंचाने वालों को ₹5000 एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है। सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली ₹5000 की राशि उन्हें सम्मानित करते हुए इनाम के रूप में दी जाती है। Chiranjeevi jeevan Raksha Yojana 2022 को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य यही है कि सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को जल्द से जल्द वहां पर मौजूद व्यक्तियों द्वारा समय पर अस्पताल ले जाया जा सके।

Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana 2022 के लाभ

  • मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना का लाभ उन व्यक्तियों को मिलेगा जो राजस्थान में सड़क दुर्घटना में घायल होने वाले व्यक्तियों को अस्पताल तक पहुंचाएंगे।
  • अब राजस्थान में सड़क दुर्घटना के समय घायलों को अस्पतालों तक पहुंचाने वालों को किसी भी कानूनी कार्यवाही का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • दुर्घटनाग्रस्त व्यक्तियों को जल्द से जल्द अस्पताल ले जाया जा सकेगा। जिससे उन्हें सही समय पर उपचार में सकेगा और उनकी जान बच सकेगी।
  • Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana 2022 के माध्यम सड़क हादसे में घायल होने वाले व्यक्तियों को अस्पताल तक पहुंचाने पर ₹5000 की इनाम राशि एवं एक सर्टिफिकेट दिया जाता है।
  • एंबुलेंस, पुलिस की पीसीआर वैन और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी को इस योजना का लाभ नहीं मिलता है।
  • यह योजना राज्य में सड़क दुर्घटना के कारण बढ़ती हुई मृत्यु दर को भी कम करने में मदद करेगी।

राजस्थान महिला निधि योजना 

Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana की विशेषताएं

  • राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत जी ने ‌ 6 सितंबर 2021 को मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन‌ रक्षा योजना को शुरू किया था।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य में सड़क हादसों में घायल हुए लोगों को सहायता करने वालों को पुरस्कार  (इनाम) राशि दी जाती है।
  • यह इनाम राशि ₹5000 की होती है जिसके साथ एक प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया जाता है।
  • इस योजना की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि देश के किसी भी राज्य का नागरिक राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाता है तो वह इस योजना के तहत इनाम राशि प्राप्त करने का हकदार हैं।
  • अब राज्य में सड़क दुर्घटना होने पर वहां पर मौजूद नागरिक बिना किसी कानूनी डर के घायलों को बेफिक्र होकर अस्पताल तक पहुंचा सकेंगे।

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना 2022 के तहत पात्रता

  • देश के किसी भी राज्य का नागरिक राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाता है वह इस योजना के तहत इनाम राशि प्राप्त करने का पात्र है।
  • सरकारी/प्राइवेट एंबुलेंस, पुलिस की पीसीआर वैन और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी इस योजना का लाभ उठाने के पात्र नहीं हैं।

आयुष्मान भारत महात्मा गांधी स्वास्थ्य बीमा योजना 

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना 2022 के तहत आवेदन कैसे करें?

  • सबसे पहले आपको सड़क दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाने के बाद संबंधित अस्पताल में तैनात कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर को अपनी पूरी एवं सही जानकारी दर्ज करवानी है।
  • आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर एवं बैंक डिटेल दर्ज आदि की जानकारी करवानी होगी।
  • आपकी सभी जानकारी दर्ज करने के बाद सीएमओ अस्पताल में लाए हुए घायल व्यक्ति के इलाज के अनुसार एक रिपोर्ट तैयार करेंगे कि व्यक्ति को जब अस्पताल लाया गया उसकी हालत कितनी गंभीर थी उसे तुरंत इलाज मिला या नहीं और उसकी अब क्या स्थिति है आदि।
  • सीएमओ द्वारा तैयार की गई यह रिपोर्ट डायरेक्ट पब्लिक हेल्थ के पास भेजी जाएगी।
  • अगर आपका द्वारा किया गया क्लेम सही पाया जाता है तो आपको ₹5000 की पुरस्कार राशि एवं प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा।
  • पुरस्कार राशि क्लेम अप्रूव होने के 2 दिन के अंदर लाभार्थी के बैंक खाते में हस्तांतरित की जाती है एवं प्रशस्ति पत्र लाभार्थी के पते पर स्पीड पोस्ट के माध्यम से भेजा जाता है।



Leave a Comment